Politics

बीमा और कर्ज स्कीमों के जरिए कर्मचारियों का जमीर खरीदने की कोशिश में 'आप'

December 19, 2016 05:41 PM
10 वर्ष कर्मचारियों के साथ बुरा सलूक कर अब बादल उनको भटकाऊ योजनाओं के साथ भरमाने की कर रहे हैं कोशिश - शेरगिल
बादलें ने पंजाब की दौलत जी भर कर लूटी और सूबे के खजाने में कुछ भी नहीं छोडा
अमृतसर, 19 दिसंबर 2016 
आम आदमी पार्टी ने कहा है कि बादल सरकार अब चुनावों के मौके बीमा और कर्ज स्कीमों के साथ कर्मचारियों का जमीर खरीदने की कोशिश कर रही है, जबकि पिछले पौने 10 साल कर्मचारी अपनी, मांगों को लेकर सडक़ों से लेकर सैकट्रीएट तक गुहार लगाते रहे परंतु बादल सरकार सो रही। सरकार को जगाने के लिए जब कर्मचारी संघर्ष का रास्ता अपनाने के लिए मजबूर होते तो बादल सरकार पुलिस की लाठियों के साथ उनकी आवाज दबाने की कोशिश करती रही। 
आम आदमी पार्टी (आप) के लीगल सैल के प्रमुख और मजीठा से पार्टी के उम्मीदवार हिम्मत सिंह शेरगिल ने पत्रकारों को संबोधन करते सवाल किया कि मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल और उप मुख्य मंत्री सुखबीर सिंह बादल उस समय कहां थे, जब अलग-अलग विभागों के कर्मचारियों को वेतन और सेवामुक्त होने के बाद में मिलने वाला बकाया कई-कई महीने बिना किसी कारण से रोक कर रखा। 
उन्होंने कहा कि बादल उस समय कहां थे, जब कच्चे कर्मचारियों की तरफ से उनकी सेवाओं को पक्का करने के लिए शांतमयी प्रदर्शन किए जा रहे थे और पुलिस की तरफ से उन पर लाठियां बरसाई गई और बुरी तरह से मारपीट की गई थी। 
उन्होंने कहा कि हादसे में मारे गए लोगों के लिए 15 लाख रुपए, हवाई हादसे में मारे गए व्यक्ति को 25 लाख रुपए और हादसे में अपंग होने वाले व्यक्ति को 5 लाख रुपए की बीमा राशि देने की बात फिर दोहरा कर बादलों की तरफ से लोगों और खासकर कर्मचारियों को बेवकूफ बनाने की कोशिश की जा रही है। 

शेरगिल ने कहा कि आम आदमी पार्टी अपने चुनाव मनौरथ पत्र में यह पहले ही कह चुकी है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के गठन के बाद में एडहाक, अस्थाई या ठेके पर कर्मचारी नहीं रखे जाएंगे, बल्कि सरकारी विभागों में रेगुलर भर्ती की जाएगी। 

 
इसी तरह कर्मचारियों को हाऊस लोन 9.4 प्रतिश्त, कार लोन 9.75 प्रतिश्त  और गोल्ड लोन 11.2 प्रतिश्त  की ब्याज दर पर देने का वायदा किया गया है, इस तरह लगता है जैसे कि बादलों की तरफ से कर्मचारियों को ग्रांटें दी जा रही हैं, परन्तु बादलों की इन चालाकियों से कर्मचारी अच्छी तरह जानकार हैं और उनको पता है कि बादलों की तरफ से यह चुनाीव नजदीक आने करके किया जा रहा है। 
शेरगिल ने कहा कि स्टेट बैंक आफ इंडिया, जिसने पंजाब सरकार के साथ समझौता किया हुआ है, उस की तरफ से पहले ही कम दरों पर ब्याज मुहैया करवाया जा रहा है और सरकारी कर्मचारियों को प्रोसेसिंग फीस से भी छूट है। उन्होंने कहा कि एसबीआई 9.15 से 9.35 प्रतिश्त ब्याज दर पर घर और कारों के लिए कर्जे आनलाइन आफर कर रहा है और महिला कर्मचारियों को 0.5 प्रतिशत फालतू छूट है। इसी तरह स्टेट बैंक आफ इंडिया की तरफ से अपने 1.5 करोड़ खाता धारकों को निजी दुर्घटना और अपंगता बीमा योजनाओं अधीन लाया गया है। ज़्यादातर सरकारी कर्मचारी पहले ही इन योजनाओं का एसबीआई या दूसरे बैंकों से फायदा उठा रहे हैं।
शेरगिल ने कहा कि बादलों की तरफ से की गई सरकारी खजाने की लूट को पंजाब के लोग अच्छी तरह से जानते हैं और बादलों ने सूबे का खजाना लगभग खाली कर दिया है। उन्होंने कहा कि बादलों की तरफ से किए जा रहे नए वायदे और नई वित्तीय योजनाएं कुछ भी नहीं हैं, बल्कि यह चुनाव में अपनी हार को देख कर बौखलाए बादलों द्वारा वोटरों को लुभाने की कोशिश है, जबकि वोटरों ने 2017 को चुनावों में बादलों को सत्ता से बाहर करने का पक्का मन बनाया हुआ है। 
शेरगिल ने कहा कि आम आदमी पार्टी अपने चुनाव मनौरथ पत्र में यह पहले ही कह चुकी है कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के गठन के बाद में एडहाक, अस्थाई या ठेके पर कर्मचारी नहीं रखे जाएंगे, बल्कि सरकारी विभागों में रेगुलर भर्ती की जाएगी। 
शेरगिल ने कहा कि आम आदमी पार्टी सेवामुक्त हुए कर्मचारियों के लिए पुरानी पैंशन स्कीम फिर लागू करेगी, जो कि 1 जनवरी 2004 को बंद कर दी गई थी। 
शेरगिल ने कहा कि पुरानी पैंशन स्कीम अधीन सूबे के अलग-अलग 46 विभागों के 1,15,000 कर्मचारियों को फायदा होगा, इनमें लगभग 20 हजार पंजाब पुलिस के सेवामुक्त कर्मचारी होंगे। 
Have something to say? Post your comment