Apna Himachal

विवादों में तलाड़ा-कुल्हागाड़ सड़क का भूमिपूजन : कुछ लोग सेंक रहे हैं सियासत की रोटियां तलाड़ा वासियों को मलाल

January 22, 2017 04:22 PM

कुल्लू:

तलाड़ा-कुल्हागाड़ सड़क भूमि पूजन विवादों में घिर गया है। तलाड़ा गांव के भूमि मालिकों ने आरोप लगाया है कि उनको विश्वास में लिए बिना ही सड़क का भूमि पूजन किया गया है। जबकि समस्त तलाडू परिवार ने इस सड़क का विरोध किया था। समस्त तलाडू परिवार ने आयुर्वेद एवं सहकारिता मंत्री कर्ण सिंह से पूछा है कि क्या वे सड़क को हवाई मार्ग द्वारा निकालने जा रहे हैं जबकि भूमि पर मालिकाना हक हमारा है।

कुछ लोग इसमें अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रहे हैं जो वाजिब नहीं है। उक्त लोगों ने जिला प्रशासन, लोक निर्माण विभाग व सरकार से भी मांग की है कि इस नए सर्वे पर शीघ्र रोक लगाई जाए और पुराने सर्वे के मुताबिक सड़क का निर्माण किया जाए अन्यथा ग्रामीणों का आक्रोश झेलना पड़ेगा और सड़क भी निर्मित नहीं होगी। उक्त भूमि मालिकों का कहना है कि वे सड़क के विरोध में नहीं हैं लेकिन अनुचित तरीके से सड़क निर्माण करना ठीक नहीं है 

जय बिहारी भारद्वाज व समस्त तलाडू परिवार के हवाले से ज़ारी एक व्यान में कहा गया है कि समस्त तलाडू परिवार ने कहा है कि किसी भी सूरत में यहां से सड़क निर्माण नहीं होने दिया जाएगा। लोग कहता हैं कि पुराने सर्वे के मुताबिक लोगों की कम जमीन लग रही है . लोगों ने यह भी पूछा है कि आखिर किसकी शह पर नये  सर्वे के मुताबिक सड़क निर्माण की बात की जा रही है। उन्होंने कहा कि सड़क के लिए न तो अभी तक बजट है और न ही डीपीआर तैयार की है और न ही गांव के लोगों ने सड़क निर्माण के लिए भूमि दी है फिर भी भूमिपूजन करके लोगों को परेशानी में क्यों डाला जा रहा है।

व्यान के मुताबिक आयुर्वेद मंत्री कर्ण सिंह ने स्वयं जनसभा में कहा कि न तो डीपीआर तैयार है और न ही फॉरेस्ट क्लीयरेंस और न ही पैसे का प्रावधान है। यही बजह है कि तलाड़ा-कुल्हागाड़ सड़क निर्माण पर तलाड़ा गांव के लोगों ने विरोध जताया है। तलाड़ा गांव के लोगों ने कहा है कि इस सड़क निर्माण के लिए वे अपनी भूमि नहीं देंगे। गांव के लोगों का कहना है कि यह सड़क पुराने सर्वे के मुताबिक होनी चाहिए जिसमें गांव के लोगों की जमीन भी नहीं लग रही है और अन्य गांव भी पुराने सर्वे के मुताबिक इस सड़क से लाभान्वित हो रहे हैं।

गांव के भूमि मालिक जय बिहारी भारद्वाज, रामलाल शर्मा, जगरनाथ शर्मा, रामनाथ शर्मा, ओम प्रकाश शर्मा, रमेश शर्मा, शुभम शर्मा, विवेक भारद्वाज, रिशु शर्मा, आशीष शर्मा, लता  शर्मा, वेद प्रकाश, भावना शर्मा,  सरोजबाला  आदि लोगों ने इस सड़क का विरोध जताया है और कहा है कि तलाडू परिवार सड़क निर्माण के लिए भूमि नहीं देंगे। उक्त भूमिमालिकों ने बताया कि जिस खसरा नंबर से सड़क जा रही है उसमें 10 परिवारों की जमीन आती हैं। उक्त लोगों का कहना है कि जब पुराना सर्वे हो चुका है और इस सर्वे के मुताबिक जहां सभी गांव सड़क सुविधा से जुड़ रहे हैं तो नए सर्वे की क्या जरूरत थी।  लोगों को मलाल है कि नए  सर्वे के लिए भी उन्हें विश्वास में नहीं लिया गया है और न ही भूमिपूजन में उन्हें विश्वास में लिया गया है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग इसमें अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रहे हैं जो वाजिब नहीं है। उक्त लोगों ने जिला प्रशासन, लोक निर्माण विभाग व सरकार से भी मांग की है कि इस नए सर्वे पर शीघ्र रोक लगाई जाए और पुराने सर्वे के मुताबिक सड़क का निर्माण किया जाए अन्यथा ग्रामीणों का आक्रोश झेलना पड़ेगा और सड़क भी निर्मित नहीं होगी। उक्त भूमि मालिकों का कहना है कि वे सड़क के विरोध में नहीं हैं लेकिन अनुचित तरीके से सड़क निर्माण करना ठीक नहीं है गौर रहे कि तलाड़ा गांव के लोगों के विरोध के बावजूद आयुर्वेद मंत्री कर्ण सिंह ने शनिवार को तलाड़ा-कुल्हागाड़ सड़क का भूमिपूजन किया है। 
 

Have something to say? Post your comment