Apna Himachal

मुख्यमंत्री ने कुल्लू में रखी विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं की आधारशिलाएं

July 13, 2017 06:48 PM
 
विलासपुर:
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के लिए स्वीकृत विकासात्मक परियोजनाओं को रोकने के लिए विपक्ष की आलोचना की। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री बिलासपुर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान चिकित्सा संस्थान के निर्माण कार्य के लिए तभी सोचेंगे, जब प्रदेश में भाजपा सत्ता में आएगी, परन्तु उनका यह स्वप्न कभी भी पूरा नहीं होगा। राज्य सरकार ने केन्द्रीय मंत्रालय को उनकी इच्छा के अनुसार पर्याप्त भूमि दी है, लेकिन अब इसमें देरी केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से है, जिसका कारण केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री भलीभांति जानते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर अनुशासनहीनता किसी भी हालत में बर्दाशत नहीं की जाएगी और हम ऐसे लोगों को कांग्रेस पाटी्र से बाहर करने के लिए सक्षम हैं, जो पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होकर पार्टी प्रतिष्ठा को धूमिल कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर अनुशासनहीनता किसी भी हालत में बर्दाशत नहीं की जाएगी और हम ऐसे लोगों को कांग्रेस पाटी्र से बाहर करने के लिए सक्षम हैं, जो पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होकर पार्टी प्रतिष्ठा को धूमिल कर रहे हैं। 

उन्होंने कहा कि पार्टी के भीतर अनुशासनहीनता किसी भी हालत में बर्दाशत नहीं की जाएगी और हम ऐसे लोगों को कांग्रेस पाटी्र से बाहर करने के लिए सक्षम हैं, जो पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होकर पार्टी प्रतिष्ठा को धूमिल कर रहे हैं। 

 
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि वह मानते हें कि भाजपा की यह सोच गलत है कि वह प्रदेश में सरकार बनाएंगे, जबकि कई वर्षों तक उनकी प्रदेश में सत्ता वापसी मुश्किल है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब पांच मेडिकल कॉलेज हैं। उन्होंने कहा कि वन स्वीकृति प्राप्त होने के उपरांत मेडिकल कॉलेज हमीरपुर के भवन का कार्य आरम्भ कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में शिक्षा, स्वास्थ्य, कल्याण व अन्य क्षेत्रों में बहुत कुछ किया है, जिसे भाजपा बदार्शत नहीं कर पा रही है और आलोचना कर रही है और भाजपा नेताओं के पास अपने विरोधियों को बदनाम करने के अलावा कोई कार्य नहीं रह गया है।
 
मुख्यमंत्री ने पार्बती नदी पर उप सब्जी मण्डी छाट से पीनी-बनाशा के लिए पुल, बरेहन (चांनी-रवाड) से बिजली महादेव के लिए सड़क के निर्माण की घोषणा की। उन्होंने राजकीय उच्च पाठशाला छाट को वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने व राजकीय प्राथमिक पाठशाला बडोगी को माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत करने, गनाखला में नई राजकीय प्राथमिक पाठशाला खोलने व माध्यमिक पाठशाला कसोल को उच्च पाठशाला में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बरशैणी, कालरा ग्लेशियर, रूद्र नाग से खीरगंगा के लिए यात्री रज्जू मार्ग के निर्माण के लिए सर्वेक्षण करने का आश्वासन दिया तथा कहा कि कसोल में कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक की शाखा खोलने के लिए जांच पड़ताल की जाएगी। उन्होंने कहा कि उप सब्जी मण्डी के विस्तार का समय आ गया है और सरकार इस तरह की विपणन मंडियां प्रत्येक जिले के विभिन्न स्थानों पर खोलेगी, जिससे क्षेत्र के किसानों व बागवानों को अपने उत्पाद के क्रय-विक्रय की सुविधा हो सके।
 
उन्होंने कहा कि कृषि गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए जापान अन्तर्राष्ट्रीय निगम एजेंसी (जीका) के तहत 321 करोड़ रुपये की फसल विविधिकरण योजना कार्यान्वित की जा रही है। डॉ. वाई.एस. परमार किसान स्वरोजगार योजना के अन्तर्गत पॉली हाउस निर्माण के लिए 85 प्रतिशत का अनुदान प्रदान किया जा रहा है। फसलों को जंगली जानवरों से बचाने के लिए खेतों की फेंसिंग के लिए मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना के अन्तर्गत किसानों को 60 प्रतिशत का अनुदान दिया जा रहा है।
 
इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने 4.95 करोड़ रुपये की लागत से छरौड़ नाला-बड़ोगी सड़क के स्तरोन्यन व 99 लाख रुपये की लागत की शिलीहार उठाऊ पेयजल योजना का शिलान्यास किया, जिससे क्षेत्र की 2263 जनसंख्या लाभान्वित होगी। उन्होंने छरौड़ नाला से कशाबरी के लिए 4.93 करोड़ रुपये की लागत से स्तरोन्नत होने वाली सड़क की भी आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री ने चौंग शिलीहार, बराधा, जरी, अरखाली के लिए 2.86 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली उठाऊ पेयजल योजना की आधारशिला भी रखी, जिससे क्षेत्र की 1000 से अधिक जनसंख्या लाभान्वित होगी।
 
इसके उपरांत उन्होंने हॉट सल्फर बाथ की आधारशिला भी रखी, जिसका कार्य हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा आरम्भ किया जाएगा। उन्होंने 1.98 करोड़ रुपये की लागत से खराहल के तलोगी, मतराणा व तराड़का के लिए पेयजल आपूर्ति योजना की आधारशिला रखी। उन्होंने 9 करोड़ रुपये की लागत के कोलीबेहड़-काइसधार-बराहार-दोहरा नाला-बरोगी सड़क के सुधार व निर्माण की भी आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री ने 2.18 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित लारी-मनारी-देऊधार पेयजल योजना का भी लोकार्पण किया। वहां 7.38 करोड़ रुपये की लागत की केवल चार पेयजल आपूर्ति योजनाएं हैं। मुख्यमंत्री ने छाट में 1.28 करोड़ रुपये की लागत की उप सब्जी मण्डी का भी लोकार्पण किया।
 
पूर्व मंत्री श्री सत्य प्रकाश ठाकुर ने मुख्यमंत्री का क्षेत्र के लिए 36 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं को लोकार्पित करने के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि उप सब्जी मण्डी से क्षेत्र के नजदीक की पंचायतों के लोग लाभान्वित होंगे और उन्हें अपने फलों व सब्जियों के बेचने की सुविधा उपलब्ध होगी।  उन्होंने राजकीय उच्च पाठशाला शाट को स्तरोन्नत करने व पार्वती नदी पर छाट से दूसरी तरफ पंचायतों को जोड़ने वाले पुल के निर्माण का आग्रह किया। 
 
हि.प्र. कांग्रेस समिति के महासचिव श्री सुन्दर सिंह ठाकुर ने भुंतर के रूपी में नए विकास खण्ड सृजित करने के अतिरिक्त कुछ स्कलों को स्तरोन्नत करने का आग्रह किया। उन्होंने कसोल में कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक की शाखा खोलने का भी आग्रह किया। उन्होंने मणिकर्ण-कसोल क्षेत्र को विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण से बाहर करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि घाटी के लगभग 250 युवाओं को कौशल विकास निगम योजना के तहत होटल प्रबन्धन का प्रशिक्षण दिया गया है और उन्हें कुल्लू व मणिकर्ण के होटलों में नौकरी भी उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने कहा कि घाटी पर्यटन की दृष्टि से प्रसिद्ध है। उन्होंने बजौरा-कालगा ग्लेशियर-रूद्र नाग-खीरगंगा के लिए रज्जू मार्ग परियोजना का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि स्थानीय विधायक महेश्वर सिंह क्षेत्र में विकास कार्य करवाने में पूरी तरह से असफल रहे हैं। वह केवल लोगों को गुमराह करते रहे हैं।
 
वन मंत्री  ठाकुर सिंह भरमौरी, हि. प्र. कांग्रेस समिति के सचिवअमित भरमौरी, हि.प्र. कांग्रेस समिति के प्रवक्ता  भुवनेश्वर गौड़, एपीएमसी कुल्लू के अध्यक्ष श्री उपेन्द्र कांत मिश्रा, जिला परिषद सदस्य प्रेम लता ठाकुर, जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष बुद्धि सिंह, जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष विद्या नेगी, ब्लॉक कांग्रेस समिति के अध्यक्ष उत्तम शर्मा, होटलियर एसोसियेशन मणिकर्ण के अध्यक्ष किशन ठाकुर व अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।
Have something to say? Post your comment