Apna Himachal

चिकित्सा के क्षेत्र में आयुषी ने देशभर में कई परीक्षाओं को मेरिट में किया पास

May 31, 2017 05:04 PM
कुल्लू:
 

वर्ष 2016-17 में एनईईटी की परीक्षा में फाइट किया जिसमें 53वां रैंक हासिल कर नाम रोशन किया। हाल ही में आयुषी का चयन आईजीएमसी शिमला में एमडी  एनेस्थेसिया हुआ। पीजीआई में भी आयुषी ने क्वालीफाई करके देशभर में 244वां रैंक 94 फीसदी में किया। यही नहीं आयुषी लगातार चिकित्सा के क्षेत्र में आगे बढ़ती गई और पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। ऑल इंडिया मेडिकल की परीक्षा में 943 वां रैंक हासिल करके देशभर में अपना नाम रोशन किया। वहीं, एम्ज में 95 फीसदी अंक प्राप्त किए।

देवभूमि कुल्लू की आयुषी मेहता का आईजीएएमसी शिमला में एमडी एनेस्थेसिया श्रेणी में चयन हुआ है। आयुषी ने देशभर में चिकित्सा के क्षेत्र में मेरिट लिस्ट में परीक्षाएं पास की हैं। कुल्लू के शास्त्रीनगर में मेहता परिवार में जन्मी डॉ. आयुषी मेहता ने चिकित्सा के क्षेत्र में हर परीक्षा में मेरिट लिस्ट में अपना नाम अंकित किया है।
 
जिससे आयुषी के घर कुल्लू में खुशी का माहौल है। आयुषी के पिता चंद्रशेखर मैहता व माता रेखा मेहता मध्यम परिवार से हैं। चंद्रशेखर मैहता ठेकेदार है और रेखा मैहता फिमेल हैल्थ वर्कर। आयुषी ने 10वीं की परीक्षा कुल्लू के प्रसिद्ध स्कूल ओएलएस से की। जबकि जमा दो डीएवी स्कूल चंडीगढ़ से सीबीएससी बोर्ड  से की जिसमें आयुषी ने 91 फीसदी अंक लेकर देशभर में टॉप रही। वहीं, एचपीपीएमटी व एमबीबीएस की परीक्षाओं में भी आयुषी मेरिट लिस्ट में रही।
 
वर्ष 2016-17 में एनईईटी की परीक्षा में फाइट किया जिसमें 53वां रैंक हासिल कर नाम रोशन किया। हाल ही में आयुषी का चयन आईजीएमसी शिमला में एमडी  एनेस्थेसिया हुआ। पीजीआई में भी आयुषी ने क्वालीफाई करके देशभर में 244वां रैंक 94 फीसदी में किया। यही नहीं आयुषी लगातार चिकित्सा के क्षेत्र में आगे बढ़ती गई और पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। ऑल इंडिया मेडिकल की परीक्षा में 943 वां रैंक हासिल करके देशभर में अपना नाम रोशन किया। वहीं, एम्ज में 95 फीसदी अंक प्राप्त किए।
 
खास बात यह है कि आयुषी मैहता ने यह सारी परीक्षाएं ओपन वर्ग में पास की है। आयुषी के चिकित्सा क्षेत्र में चल रहे इस जनून को यहीं से भांपा जा सकता है कि ओपन वर्ग में ही आयुषी ने सारी परीक्षाएं मेरिट में पास की है। आयुषी ने बताया कि बचपन से ही उसका सपना इस क्षेत्र में आगे बढऩे का था और वोह आज पूरा होता नजर आ रहा है। आयुषी ने बताया कि इस क्षेत्र में आगे बढऩे के लिए माता रेखा मैहता व पिता चंद्रशेखर मैहता का हमेशा योगदान रहा है।
 
इसके अलावा वह अपने गुरूजनों को इसका श्रेय देती है कि उन्होंने हमेशा इस क्षेत्र में आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया। आयुषी ने बताया कि वह इस मुकाम को हासिल करके चिकित्सा के क्षेत्र में देश सेवा करना चाहती है। उधर, आयुषी की इस कामयाबी पर विधायक महेश्वर सिंह, पूर्व मंत्री सत्य प्रकाश ठाकुर, विधायक गोविंद सिंह ठाकुर, विधायक खूब राम आनंद, प्रदेश क्रिकेट संघ के अध्यक्ष दानवेंद्र सिंह सहित तमाम लोगों ने आयुषी को बधाई देते हुए कहा है कि उन्होंने देशभर में कुल्लू को नाम रोशन किया है। 
Have something to say? Post your comment